Old Website
मुख्य पृष्ठ
यूज़र लॉगिन

डॉ धीरेन्द्र कुमार पाण्डेय , कार्यपालक निदेशक, जन अभियान परिषद्
डॉ. धीरेन्द्र कुमार पाण्डे्य ने संभाला जन अभियान परिषद् के कार्यपालक निदेशक का पद

From :-JAP Publication


Dr. Dhirendra Kumar Pandey , Executive Director(CURRICULUM – VITAE)

मध्यप्रदेश विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद् के वरिष्ठ प्रधान वैज्ञानिक, डॉ. धीरेन्द्र कुमार पाण्डे्य, द्वारा दिनांक 14 नवम्बर , 2017 को म.प्र. जन अभियान परिषद् के नवीन कार्यपालक निदेशक के रूप में कार्यभार ग्रहण किया गया है। डॉ.पाण्डे्य जियोग्राफी विषय में स्नातकोत्तर हैं तथा रिमोट सेसिंग तकनीक में डॉक्टरेट की उपाधि प्राप्त की है। साथ ही उन्होंने इंडियन इंस्‍टीट्यूट ऑफ रिमोट सेंसिंग (आईआईआरएस. इसरो) देहरादून से रिमोट सेंसिंग एवं जीआईएस विषय में पीजी डिप्लोमा भी प्राप्त किया है। डॉ. पाण्डेय ने सन 1990 में परियोजना वैज्ञानिक के रूप में अपने कैरियर की शुरूआत म.प्र. विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद् भोपाल से की। तदुपरांत वे क्रमश: वैज्ञानिक, वरिष्ठत वैज्ञानिक, प्रधान वैज्ञानिक के पद पर पदोन्नत हुए। वे अप्रैल, 2013 से वरिष्ठ प्रधान वैज्ञानिक के रूप में शासन एवं समाज को अपनी सेवाएं प्रदान करते आये हैं। इस दौरान उन्होंने मध्य प्रदेश विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद् के रिजनल एक्टेंशन सेंटर तथा लैंड यूज अर्बन सर्वे डिवीजन के प्रमुख के रूप में तथा टेक्ना्लॉजी मैनेजमेंट सेंटर, पब्लिक रिलेशन डिवीजन तथा ह्यूमन रिसोर्स डेवलपमेंट डिवीजन के प्रभारी के रूप में अपनी सेवायें दी हैं। उन्हें ग्रामीण एवं नगरीय नियोजन, भूमि संसाधन (प्राकृतिक संसाधन) प्रबंधन, समन्वय, क्रियान्वयन एवं अनुश्रवण, कार्ययोजना निर्माण तथा रिमोट सेंसिंग एवं जीआइएस की विभिन्न ऍप्लिकेशन्स आदि विषयों का व्यायपक अनुभव है।

डॉ. पाण्डे्य द्वारा 2007 से वैज्ञानिक एवं शैक्षणिक कार्यों के साथ-साथ प्रशासनिक उत्तवरदायित्वों को भी प्रमाणिकता से पूर्ण किया है। वैज्ञानिक कार्य के रूप में उनके द्वारा 10 महत्व्पूर्ण राष्ट्र स्तरीय परियोजनाओं का सफल समन्वयन किया गया है।

वैज्ञानिक, शैक्षणिक एवं प्रशासकीय कार्यों के अतिरिक्त डॉ. पाण्डेय ने वर्ष 2014-15, 2015-16 एवं 2016-17 तक बरकतउल्लाह विश्वविद्यालय भोपाल में बोर्ड ऑफ स्टडीज के सदस्य के रूप में, वर्ष 2012 से 31 मार्च, 2017 तक लघु उद्योग निगम, उद्योग विभाग, मध्य प्रदेश शासन के तकनीकी सदस्य के रूप में एवं वर्ष 2011 से 2015 तक आर.सी.पी.व्ही. नरोन्हा प्रशासन अकादमी भोपाल में नेशनल लैंड रिकार्ड मैनेजमेंट प्रोग्राम (एन.एल.आर.एम.पी.) केन्द्र के लिये सलाहकार के रूप में सेवायें प्रदान की हैं। उनके द्वारा मध्य प्रदेश विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिष् के अंतर्गत पैटेंट एवं नवाचार हेतु गठित समिति के अध्यक्ष की भूमिका का निर्वहन भी किया गया है।

मध्य प्रदेश विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी परिषद् के अंतर्गत डॉ. पाण्डेय के निर्देशन में अनेक राष्ट्र स्तयरीय कार्यशालाओं, सम्मेलनों एवं गोष्ठियों का आयोजन किया गया है जिसमें प्रदेश के मुख्यमंत्री सहित देश-विदेश के ख्याति प्राप्त वैज्ञानिक एवं सामाजिक कार्यकर्ता सम्मिलित हुये हैं। नेशनल रिमोट सेंसिंग एजेंसी (इसरो) भारत शासन द्वारा प्रकाशित पुस्त कों जैसे वेट लैंड्स ऑफ इंडिया (2002), लैंड यूज कवर ऑफ इंडिया (1992), वेट लैंड एटलस ऑफ इंडिया (2000) तथा वेस्ट लैंड एटलस ऑफ इंडिया (2005) के प्रकाशन में टीम मेंबर के रूप में डॉ. पाण्डेय की महत्वपूर्ण भागीदारी रही।

डॉ. धीरेन्द्र् कुमार पाण्डेय द्वारा विज्ञान के क्षेत्र में किये गये कार्यों से संबंधित अनेक शोध पत्रों एवं प्रतिवेदनों का प्रकाशन राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर के जर्नल्स /किताबों/बुकलेट्स में हुआ है। डॉ. पाण्डेय ने इंडियन सोसायटी ऑफ रिमोट सेंसिंग तथा इंडियन सोसायटी ऑफ जियोमेटिक्स में आजीवन सदस्यता ग्रहण की हुई है।

जन अभियान परिषद् के कार्यपालक निदेशक के रूप में कार्यभार ग्रहण करने के अवसर पर उनके द्वारा जन अभियान परिषद् को सशक्त सामाजिक संस्था के रूप में शासन एवं समाज के मध्यम कड़ी के रूप में खड़ा करने की मंशा व्यक्त की गई है।

जन अभियान परिषद् परिवार अपने नवागत कार्यपालक निदेशक डॉ. धीरेन्द्र कुमार पाण्डेय का हृदय से स्वा्गत करता है।



 
नवीनतम सूचनाएँ
त्वरित संपर्क
नाम :
फ़ोन न. :
ई मेल :
पता :
सुझाव / प्रश्न :
 
विशेष
महत्वपूर्ण विभागीय लिंक
 
Powered by IT'Fusion Best View Resolusion : 1024 x 768
Total Visits Online Count
All Copy Rights are Reserved @ MPJAP Best View Browser : IE6 , Chrome