Old Website
मुख्य पृष्ठ
यूज़र लॉगिन

महिला सशक्तिकरण  

बेटिया अभिशाप नहीं वरदान हैं

From :- Patrika,March , 2013


हमें स्वामी विवेकानन्द की मेहनत और विचार याद आते हैं। उन्होंने आज से 100 वर्ष पहले महिलाओं को आगे लाने का प्रयास किया। अपने जीवन के 37 वर्ष लगा दिए तथा ग्रामीण महिलाओं को आगे लाये एवं कुरीतियों को बन्द कराया। यह आज पन्ना जिले के शाहनगर विकासखण्ड से जागृति युवा मंच समिति -द्वारा किये गये प्रयासों से दिख रहा है। तेजस्विनी कार्यक्रम के तहत जागृति युवा मंच समिति -द्वारा पन्ना जिले के शाहनगर के जनपद प्रांगण में महिला महा अधिवेशन कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें शाहनगर विकासखण्ड के 73 ग्रामों से लगभग 1500 महिलाओं ने भाग लिया। इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में राज्य मन्त्री श्री बृजेन्द्र प्रताप सिंह एवं म.प्र. जन अभियान परिषद्‌ के उपाध्यक्ष श्री प्रदीप पाण्डेय उपस्थित थे। इस अवसर पर म.प्र. जन अभियान परिषद्‌ के उपाध्यक्ष श्री प्रदीप पाण्डेय ने कहा कि इस कार्यक्रम को देखने के बाद हमें स्वामी विवेकानन्द की मेहनत और विचार याद आते हैं। उन्होंने आज से 100 वर्ष पहले महिलाओं को आगे लाने का प्रयास किया। अपने जीवन के 37 वर्ष लगा दिए तथा ग्रामीण महिलाओं को आगे लाये एवं कुरीतियों को बन्द कराया। यह आज पन्ना जिले के शाहनगर विकासखण्ड से जागृति युवा मंच समिति -द्वारा किये गये प्रयासों से दिख रहा है। श्री पाण्डे ने आगे कहा कि मैं अपने सामाजिक जीवन में म.प्र. जन अभियान परिषद्‌ के माध्यम से सतत्‌ कार्य करते हुए माताओंबहनों को आगे बढ़ाने का प्रयास करता रहूंगा। मुख्य अतिथि श्री बृजेन्द्र प्रताप सिंह ने कहा कि हमारे मुख्यमंत्री जी के -द्वारा कन्याओं के लिए जो योजनाएँ चलाई गयी हैं यह काम आज तक किसी सरकार ने नहीं किया। इससे हमारे गरीब दलित आदिवासी तबके को बहुत लाभ हुआ है। लाड़ली लक्ष्मी योजना में बेटी पैदा होते ही उसे लखपति बना दिया जाता हैं। सरकार -द्वारा बेटी बचाओ अभियान योजना भी चलायी जा रही है। संस्था प्रमुख श्री रामलखन तिवारी ने कहा कि समूह के माध्यम से हमे ग्राम की सभी महिलाओं को सशक्त एवं आत्म निर्भर बनाना है। श्री तिवारी ने पिछले समय में हुए कार्य के विषय में अवगत कराया एवं वर्तमान समय में चल रहे तेजस्विनी कार्यक्रम के तहत लघु उद्योगों पर प्रकाश डालते हुए कहा कि इस कार्यक्रम के तहत हमारे 123 ग्रामों में 610 महिला स्वयं सहायता समूह बने हुए हैं जिसकी बचत 58,74,645 रुपये एवं बैंक से 601000 रुपये की सहायता मिल चुकी है। मुख्य व्यापार के रूप में अगरबत्ती का कार्य शुरू किया गया है एवं छोटेछोटे व्यापार मनिहारी दुकान, किराना दुकान, बॉस बर्तन, सब्जी दुकान, अगरबत्ती निर्माण, ईट भट्टा निर्माण, कपड़ा दुकान, बकरी पालन, मुर्गी पालन आदि उद्योग धन्धों की शुरूआत की गई। बैंक से लिया गया ऋण भी वापिस किया जा चुका है। क्षेत्र में वन उपज संग्रह भी किया जा रहा है तथा बकरी पालन का कार्य भी शुरू है। श्री श्याम गौतम ने तेजस्विनी कार्यक्रम पर प्रकाश डालते हुए कहा गया कि इस कार्यक्रम को सन्‌ 2008 एवं 2009 में शुरू किया गया था। इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य महिलाओं को सशक्त करना है, जो हमारे जिला कार्यालय में कुछ लक्ष्य को लेकर किया जा रहा है। सशक्त का मतलब था कि अपने अधिकारों को जाने तथा समूह के माध्यम से अपनी आर्थिक, राजनैतिक और सामाजिक स्थिति को मजबूत बनाये और इस कार्यक्रम में हम बहुत अच्छे तरीके से सफल भी हुए हैं। इसका प्रमाण है कि आज हमारे जिले में एक करोड़ सड़सठ लाख रुपये की केवल समूहों के -द्वारा बचत जमा की गई है जो सभी शासकीय बैंको में है। जागृति युवा मंच समिति की बात करते हुए श्री गौतम ने बताया कि हमारे जागृति युवा मंच समिति -द्वारा 612 समूह का गठन किया गया है तथा इनमें छोटेछोटे लघु उद्योगों की शुरूआत की है जिसे हमने फील्ड में जाकर भी देखा है। कार्यक्रम में जिले के तेजस्विनी कार्य प्रबन्धक श्री प्रकाश धौलाखण्डी, सहायक जिला कार्यक्रम प्रबन्धक श्री श्याम गौतम, संस्था प्रमुख श्री रामलखन तिवारी एवं फेडरेशन अध्यक्ष श्रीमती भक्ति त्रिपाठी और जागृति युवा मंच समिति शाहनगर, रैपुरा, गुनौर तेजस्विनी कार्यक्रम के सभी कार्यकर्ता उपस्थित थे।

श्रीमती रेखा श्रीवास्तव जिला समन्वयक पन्ना, म.प्र. जन अभियान परिषद्
प्रदेश को स्वर्णिम बनाने में नारी शक्ति की सहभागिता

From :- Patrika,March , 2013


देश का म.प्र. ऐसा पहला राज्य है जहाँ बेटियों के संरक्षण और महिला सशक्तिकरण के लिये पूरे प्रदेश में अभियान चलाया जा रहा है। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान -द्वारा स्वर्णिम मध्यप्रदेश की अवधारणा में नारी शक्ति सम्मान और विकास को सर्वोच्च प्राथमिकता में लिया गया और बेटियों के जन्म से लेकर उनकी पढ़ाई, विवाह, रोजगार और बेटी के मातापिता के लिये सम्मान सुरक्षा पेश्ंान जैसी योजनाओं के माध्यम से महिला सशक्तिकरण अभियान चलाया, जिसके सार्थक परिणाम हम सबके सामने हैं। यह बात श्री प्रदीप पाण्डेय उपाध्यक्ष म.प्र. जन अभियान परिषद्‌ ने नारी शक्ति ग्राम विकास यात्रा के समापन अवसर पर ग्राम खवासा में आयोजित सम्मेलन में कही। उल्लेखनीय है कि छः फरवरी से 13 फरवरी 2013 तक परिषद्‌ -द्वारा महिला सशक्तिकरण अभियान अन्तर्गत नारी शक्ति ग्राम विकास यात्रा का आयोजन विकासखण्ड थान्दला के 111 गाँवों में किया गया। जिसका समापन सम्मेलन लगभग 1235 ग्रामीण महिलाओं एवं पुरुषों की उपस्थिति में 13 फरवरी 2013 को खवासा ग्राम पंचायत परिसर में हुआ, जिसमें प्रमुख वक्ता के रूप में ब्रह्मकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय की राजयोग शिक्षिका बहन ज्योति दीदी ने महिलाओं को संबोधित करते हुए कहा कि वास्तव में आज यात्रा का समापन नहीं है, यात्रा अनवरत चलती रहना चाहिए। नारी शक्ति आध्यात्मिक, सामाजिक समरस्ता के साथ जागृत होकर ग्राम विकास, समाज विकास के कार्य में सहभागी बनने के लिये स्वप्रेरित होकर आगे आयेगी, तभी नारी शक्ति जागृति पूर्ण होगी। वहीं पूर्व विधायक थान्दला श्री कलसिंह भाभर ने महिलाओं के लिए शासन -द्वारा चलाई जा रही जनकल्याणकारी योजनाओं का अधिक से अधिक लाभ लेने की बात कही। समापन सम्मेलन में आठ दिनों तक यात्रा दलों में उपस्थित महिला कार्यकर्ताओं का सम्मान किया गया।

वीरेन्द्र सिंह ठाकुर जिला समन्वयक झाबुआ, म.प्र. जन अभियान परिषद्

 
नवीनतम सूचनाएँ
त्वरित संपर्क
नाम :
फ़ोन न. :
ई मेल :
पता :
सुझाव / प्रश्न :
 
विशेष
महत्वपूर्ण विभागीय लिंक
 
Powered by IT'Fusion Best View Resolusion : 1024 x 768
Total Visits Online Count
All Copy Rights are Reserved @ MPJAP Best View Browser : IE6 , Chrome