Old Website
मुख्य पृष्ठ
यूज़र लॉगिन

सूचनाएँ
पत्रिका ज.अ.प. की सदस्यता शुल्क परिवर्तन फरवरी 2014 से।

Letter no 148 Bhopal:Friday, Januray 17, 2014


''ज.अ.प.'' का सदस्यता शुल्क प्रति अंक रु. 15 है, और वर्तमान में वार्षिक शुल्क रु. 150, 5 वर्षीय शुल्क रु. 750, 10 वर्षीय शुल्क रु. 1500 है जिसे परिवर्तित कर माह फरवरी 2014 से वार्षिक शुल्क रु. 180, 5 वर्षीय शुल्क रु. 900, 10 वर्षीय शुल्क रु. 1800 किया जाता है।

उमेश शर्मा ,कार्यपालक निदेशक म.प्र. जन अभियान परिषद्
मुख्यमंत्री राज्य एवं जिला-स्तरीय उत्कृष्ट स्वैच्छिक संगठन पुरस्कार-2012 घोषित ।

Bhopal:Tuesday, February 5, 2013


मध्यप्रदेश जन-अभियान परिषद द्वारा मुख्यमंत्री राज्य एवं जिला-स्तरीय उत्कृष्ट स्वैच्छिक संगठन पुरस्कार वर्ष-2012 की घोषणा की गई है। स्वैच्छिक संगठन आशग्राम ट्रस्ट बड़वानी का 5 लाख की राशि के मुख्यमंत्री राज्य-स्तरीय उत्कृष्ट स्वैच्छिक संगठन पुरस्कार के लिये चयन किया गया है। इसका निर्णय मुख्यमंत्री राज्य-स्तरीय उत्कृष्ट स्वैच्छिक संगठन पुरस्कार वर्ष-2012 के लिये योजना, आर्थिक एवं सांख्यिकी मंत्री श्री राघवजी की अध्यक्षता में गठित समिति ने लिया है। समिति द्वारा लिये गये निर्णय के अनुसार स्वैच्छिक संगठन भाऊ साहब भुस्कुटे स्मृति लोक न्यास, होशंगाबाद एवं सार्थक सामुदायिक विकास एवं जन-कल्याण संस्था, भोपाल ने मुख्यमंत्री राज्य-स्तरीय उत्कृष्ट स्वैच्छिक संगठन पुरस्कार की श्रेणी में क्रमशः द्वितीय एवं तृतीय स्थान प्राप्त किया है। इन्हें पुरस्कार के रूप में क्रमशः तीन लाख एवं एक लाख की राशि दी जायेगी। चयनित संस्थाओं को परिषद के 8 मार्च, 2013 को होने वाले संवाद कार्यक्रम में पुरस्कृत किया जायेगा।

मुख्यमंत्री जिला-स्तरीय स्वैच्छिक संगठन पुरस्कार के लिये प्रदेश के 39 जिलों से एक-एक स्वैच्छिक संस्था का चयन किया गया है। जिला-स्तरीय पुरस्कार के लिये सभी जिलों में जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में चयन समिति का गठन किया गया था। जिला-स्तरीय पुरस्कार के लिये चयनित स्वैच्छिक संगठनों को एक-एक लाख रुपये की राशि पुरस्कार के रूप में दी जायेगी।

मुख्यमंत्री जिला-स्तरीय स्वैच्छिक संगठन पुरस्कार के लिये चयनित संस्थाएँ

जिला

चयनित संस्था

ग्वालियर

रमन शिक्षा समिति, ग्वालियर

शिवपुरी

मृगनयनी शिक्षा एवं ग्रामोत्थान समिति, शिवपुरी

भिण्ड

चौधरी रूपनारायण दुबे, समाज कल्याण समिति

मुरैना

धरती ग्रामोत्थान एवं ग्रामीण सहभागी विकास समिति

श्योपुर

क्षेत्रपाल बहुउद्देशीय विकास शिक्षण संस्थान समिति

गुना

सेवा भारती, गुना

अशोकनगर

काका गावरीकर सेवा भारती स्मृति न्यास, अशोकनगर

उज्जैन

युग निर्माण शिक्षण समिति, उज्जैन

देवास

सनातन विचार मंच, देवास

मन्दसौर

सुनिति महिला मण्डल नारायणगढ, मन्दसौर

भोपाल

जन-संवेदना कल्याण समिति, भोपाल

होशंगाबाद

नर्मदापुर युवा मण्डल समिति, होशंगाबाद

हरदा

सिनर्जी संस्थान, हरदा

बैतूल

ग्राम भारती महिला मण्डल, पाथाखेड़ा, बैतूल

विदिशा

रक्त सेवा समिति बासोदा, विदिशा

इंदौर

ग्रामीण उद्यमिता अनु. एवं जन-कल्याण समिति, इंदौर

अलीराजपुर

साफल्य ग्रामीण विकास संस्था, अलीराजपुर

झाबुआ

वनांचल सांस्कृतिक जागरण एवं शोध शिक्षा समिति

खरगोन

आस्था ग्राम ट्रस्ट, खरगोन

बड़वानी

कस्तूरबा कन्या आश्रम निवाली, बड़वानी

बुरहानपुर

सर्व सेवा संकल्प समिति, बुरहानपुर

सीधी

ममत्व महिला मण्डल, सीधी

रीवा

विजय लक्ष्मी शिक्षा समिति, रीवा

सतना

अनुपमा एजूकेशन सोसायटी, सतना

शहडोल

कल्याणी वेलफेयर सोसायटी, शहडोल

अनूपपूर

शहडोल कोयलांचल सेवा समिति, अनूपपूर

जबलपुर

वंदन पुर्नवास एवं अनुसंधान संस्थान, जबलपुर

डिण्डोरी

महिला शक्ति संगठन, डिण्डौरी

नरसिंहपुर

प्राणीमित्र समिति करकबेल, नरसिंहपुर

मण्डला

समर्थन प्रशिक्षण संस्थान, मण्डला

बालाघाट

स्वैच्छिक संगठन ग्रामीण विकास मण्डल

सिवनी

ह्यूमन रिसोर्स फेडरेशन बरघाट, सिवनी

छिन्दवाड़ा

कुकड़ा ग्राम उत्थान समिति, छिन्दवाड़ा

कटनी

जागृति सोसायटी फॉर सोशल वेलफेयर, कटनी

सागर

सत्यशोधन आश्रम, सागर

दमोह

रंग वेलफेयर सोसायटी, दमोह

छतरपुर

आभार महिला समिति, छतरपुर

टीकमगढ़

दमक समाज सेवी संस्था, टीकमगढ़

पन्ना

जागृति युवा मंच समिति शाहनगर, पन्ना

प्रदेश के 11 जिले क्रमशः दतिया, शाजापुर, नीमच, रतलाम, उमरिया, सिंगरोली, धार, खण्डवा, राजगढ़, सीहोर एवं रायसेन में चयन समिति द्वारा किसी भी स्वयंसेवी संगठन को जिला-स्तरीय पुरस्कार का पात्र नहीं पाया गया है।

उमेश शर्मा ,कार्यपालक निदेशक म.प्र. जन अभियान परिषद्
स्वैच्छिक संगठनों से जुड़े विषयों के शोध पर स्कालरशिप

राज्य सरकार विश्वविद्यालयों में स्वैच्छिक संगठनों से जुड़े विषयों पर शोध करने पर स्कालरशिप देगी। सरकार द्वारा यह निर्णय विगत १२ अक्टूबर २००९ को मुख्यमंत्री निवास आयोजित स्वैच्छिक संगठनों की पंचायत में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की घोषणा के क्रियान्वयन के तहत लिया गया है। इस संबंध में विगत ६ सितम्बर २०१० को योजना आर्थिक एवं सांख्यिकी विभाग म.प्र. शासन द्वारा अधिसूचना भी जारी कर दी गई है। प्रस्तुत है जारी अधिसूचना का प्रारूप।

मध्य प्रदेश शासन

योजना, आर्थिक एवं सांख्यिकी विभाग

मंत्रालय

//अधिसूचना//

भोपाल, दिनांक ०६/०९/२०१०


क्रमांक एफ ८२/२०१०/२३/यो.आ.सां. : राज्य शासन विश्वविद्यालयों में स्वैच्छिक संगठनों से जुड़े विषयों पर शोध कार्य हेतु छात्रवृति दिये जाने हेतु निम्नलिखित नियम एवं प्रक्रिया निर्धारित करता है 
1:-छात्रवृति का नाम :- स्वैच्छिक संगठनों से जुड़े विषयों पर शोध कार्य हेतु छात्रवृति।
2:-उद्देश्य :- यह छात्रवृति स्वैच्छिक संगठनों द्वारा ग्रामीण तथा नगरीय क्षेत्रों में विकास, स्वास्थ्य तथा शिक्षा आदि क्षेत्रों में किये गये कार्यों की प्रभावशीलता का अध्ययन करने तथा उनके द्वारा किये गये नवाचारी कार्यक्रमों के अध्ययन एवं विभिन्न स्वयंसेवी संगठनों के क्षेत्र में क्रियात्मक अनुसंधान हेतु विश्वविद्यालयों/मान्य अध्ययन केन्द्रों में शोध कार्य हेतु दी जायेगी।
3:-संख्या:- प्रतिवर्ष पांच शोधार्थियों को छात्रवृति दी जायेगी।
4:-शोध राशि:- शोधार्थियों को उच्च शिक्षा विभाग द्वारा दी जा रही छात्रवृति की राशि के बराबर राशि दी जायेगी। वर्तमान में यह राशि रुपये ८०००/ प्रतिमाह है तथा वर्ष में दो किश्तों में दी जाती है।
5:-चयन प्रक्रिया:- छात्रवृतियो का चयन आयुक्त, उच्च शिक्षा की अध्यक्षता में गठित एक राज्य स्तरीय समिति द्वारा किया जायेगा जिसमें राज्य सरकार द्वारा नामांकित दो प्रतिष्ठित स्वयंसेवी संगठनों के प्रतिनिधि तथा राज्य शासन द्वारा नामांकित सामाजिक विज्ञान संकाय के तीन विषय विशेषज्ञ होंगे। चयन हेतु विभिन्न शोधार्थियों द्वारा शोध केन्द्रों से अग्रेषित किये गये आवेदनों पर समिति द्वारा विचार कर निर्णय लिया जायेगा। छात्रवृति के संबंध में व्यापक प्रचार प्रसार भी समाचार पत्रों में विज्ञापनों के माध्यम से किया जायेगा।
6:-पात्रता :-
6.1:-छात्रवृति ऐसे उम्मीदवारों को दी जायेगी जो म.प्र. के मूल निवासी हो तथा जिन्होंने पी.एच.डी. के लिए शोध कार्य हेतु विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा मान्य म.प्र. के किसी भी शोध संस्थान में शोध उपाधि समिति में साक्षात्कार के उपरांत पंजीयन किया हो एवं पंजीयन प्रमाण पत्र वि.वि.द्वारा जारी किया गया हो।
6.2:-स्नातकोत्तर उपाधि में म.प्र. विह्णाविद्यालय अध्यादेश के अनुसार निर्धारित न्यूनतम अंक प्राप्त किये हो।
6.3:-मध्यप्रदेश के मूल निवासी हो जिसका प्रमाण पत्र सक्षम अधिकारी से प्राप्त किया हो।
6.4:-उम्मीदवार का विश्वविद्यालय में पंजीयन दिनांक १ नवम्बर २००९ के बाद हुआ हो।
7:-अन्य शर्ते :-
7.1:-छात्रवृति शोध उपाधि समिति की स्वीकृति तिथि से ३ वर्ष तक अथवा शोध कार्य विह्णाविद्यालय में जमा किये जाने के दिनांक तक, जो पहले हो, देय होगी।
7.2:-छात्रवृति धारक जिस शोध कार्य के लिये छात्रवृति प्राप्त कर रहा है, उसके लिये कोई अन्य छात्रवृति/वजीफा प्राप्त नहीं करेगा। यदि छात्रवृति प्राप्तकर्ता को पूर्व से कोई छात्रवृति प्राप्त हो रही है तो इस छात्रवृति का लाभ उठाने के लिये ऐसी छात्रवृति छोड़नी पड़ेगी, अर्थात एक समय में एक ही छात्रवृति की पात्रता होगी।
7.3:-छात्रवृति का नवीनीकरण विश्वविद्यालय/केन्द्राध्यक्ष द्वारा प्रतिवर्ष किया जावेगा। नवीनीकरण के लिये मुख्य शर्ते नियमित एवं संतोषजनक उपस्थिति एवं उत्तम आचरण होना अनिवार्य होगा। शोध कार्य का प्रगति प्रतिवेदन छात्र को कार्यपालक निदेशक जन अभियान परिषद्‌ तथा आयुक्त, उच्च शिक्षा संचालनालय को भेजना निवार्य होगा। इसके बाद ही अगले वर्ष के लिये छात्रवृति देय होगी।
7.4:-छात्रवृति का नवीनीकरण उक्त आधार पर किया जाकर बजट की मांग संबंधित विह्णाविद्यालय/केन्द्राध्यक्ष द्वारा कार्यपालक निदेशक, जन अभियान परिषद्‌ से की जायेगी। जो आवश्यकतानुसार विह्णाविद्यालय/केन्द्राध्यक्ष द्वारा कार्यपालक निदेशक जन अभियान परिषद्‌ से की जायेगी जो आवश्यकतानुसार विह्णाविद्यालय/केन्द्राध्यक्षों को आवंटित की जायेगी। आगामी नवीनीकरण उपेक्षित विवरण एवं भुगतान की जानकारी प्राप्त होने पर किया जा सकेगा। ऐसे सभी मामले जिनकी व्यवस्था इन नियमों में न हो, में आयुक्त, उच्च शिक्षा का निर्णय अंतिम होगा।
8:-संवितरण अधिकारी:- यह छात्रवृतियां प्रतिवर्ष म.प्र. जन अभियान परिषद्‌ (योजना, आर्थिक एवं सांख्यिकी विभाग, म.प्र. शासन) की ओर से वितरित की जायेगी।

मध्यप्रदेश के राज्यपाल के नाम से तथा आदेशानुसार

उत्कृष्ट कार्य करने वाले स्वैच्छिक संगठनों को राज्य सरकार करेगी पुरूस्कृत

राज्य सरकार प्रदेश में उत्कृष्ट कार्य करने वाले स्वैच्छिक संगठनों को पुरूस्कृत करेगी। उल्लेखनीय है कि १२ अक्टूबर २००९ को मुख्यमंत्री निवास पर आयोजित स्वैच्छिक संगठनों की पंचायत में मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने उत्कृष्ट कार्य करने वाले स्वयंसेवी संगठनों को पुरूस्कृत करने की घोषणा की थी। प्रस्तुत है योजना आर्थिक एवं सांख्यिकी विभाग म.प्र. शासन द्वारा जारी अधिसूचना।

मध्य प्रदेश शासन

योजना, आर्थिक एवं सांख्यिकी विभाग

मंत्रालय

//अधिसूचना//

भोपाल, दिनांक ११/१०/२०१०


क्रमांक एफ८३/२०१०/२३/यो.आ.सां. स्वैच्छिक संगठनों की पंचायत दिनांक १२ अक्टूबर २००९ में माननीय मुख्यमंत्रीजी द्वारा की गई घोषणा पुरूस्कारों की स्थापना प्रदेश में उत्कृष्ट कार्य करने वाले स्वैच्छिक संगठनों को प्रोत्साहित करने के लिए राज्य एवं जिला स्तरीय पुरूस्कारों की स्थापना'' म.प्र. जन अभियान परिषद्‌ (योजना आर्थिक एवं सांख्यिकी विभाग, म.प्र. शासन) के अंतर्गत मुख्यमंत्री राज्य स्तरीय उत्कृष्ट स्वैच्छिक संगठन पुरूस्कार एवं मुख्यमंत्री जिला स्तरीय उत्कृष्ट स्वैच्छिक संगठन पुरूस्कार'' स्थापित एवं प्रदान करने के लिए निम्नलिखित नियम एवं प्रक्रिया प्रस्तावित है।
1:-सम्माê